कोरोना की तीसरी लहर की तैयारी करनी होगी, वैक्सीन को भी अपडेट करना होगा

*साइंटिफिक अडवाइजर विजय राघवन*
==========================
राष्ट्र अभी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की त्रासदी से निजात नहीं पाया है। हर तरफ त्राहि त्राहि मची हुई है। लेकिन देश के सुरक्षा तंत्र ने राष्ट्र को फिर आने वाली तबाही से आगाह कराया है। केंद्र सरकार के प्रिसिंपल साइंटिफिक अडवाइजर विजय राघवन के मुताबिक कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर में इन्फेक्शन के बाद शरीर में सक्रिय हुए एंटीबॉडीज और वैक्सिनेशन के बाद पैदा हुई इम्युनिटी के बाद भी खतरा मौजूद रहेगा। कोरोना अपना रूप बदलेगा। हमें इसकी तैयारी करनी होगी और वैक्सीन को भी अपडेट करने की जरूरत होगी।

कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहे देश में स्थिति बेहद गंभीर हैं। इसी बीच केंद्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन ने इस महामारी को लेकर एक और गंभीर चेतावनी दी है। उन्होंने बुधवार को कहा कि जिस तरह तेजी से वायरस का प्रसार हो रहा है कोरोना महामारी की तीसरी लहर आनी तय है, लेकिन यह साफ नहीं है कि यह तीसरी लहर कब और किस स्तर की होगी। उन्होंने कहा कि हमें बीमारी की नई लहरों के लिए तैयारी करनी चाहिए।

विजयराघवन ने कहा कि कोरोना वायरस के विभिन्न वेरिएंट मूल स्ट्रेन की तरह की फैलते हैं। ये किसी अन्य तरीके से फैल नहीं सकते। वायरस के मूल स्ट्रेन की तरह यह मनुष्यों को इस तरह संक्रमित करता है कि यह शरीर में प्रवेश करते समय और अधिक संक्रामक हो जाता है और अपने और अधिक प्रतिरूप बनाता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान वेरिएंट्स के खिलाफ वैक्सीन प्रभावी हैं। नए वेरिएंट भारत के साथ पूरी दुनिया में सामने आएंगे लेकिन ऐसे वेरिएंट ज्यादा होंगे जो अधिक संक्रामक होंगे। उन्होंने कहा कि भारत और पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस प्रकार के वेरिएंट्स का पूर्वानुमान लगाने और उनके खिलाफ काम करने के लिए चेतावनी और संशोधित टूल विकसित करके तेजी से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह एक गहन शोध का प्रोग्राम है जो भारत और अन्य देशों में चल रहा है।
कोविड संक्रमण की दूसरी लहर का सामना कर रहे देश में सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर ३४ लाख ८७ हजार २२९ हो गई है जोकि कुल संक्रमित मामलों का १६.८७ फीसदी है। पिछले २४ घंटे के दौरान कोरोना के सक्रिय मामलों में ४०,०९६ का इजाफा हुआ है। देश में एक दिन में संक्रमण से रिकार्ड ३७८० लोगों की मौत हुई है। इसका ७४.९७ फीसदी भी इन १० राज्यों में ही है। महाराष्ट्र में सर्वाधिक ८९१ जबकि उत्तर प्रदेश में ३५१ मरीजों ने दम तोड़ा है।

भारत में पिछले २४ घंटे के दौरान कोरोना के तीन लाख ३८ हजार ४२९ मरीज ठीक भी हुए हैं जिससे देश में अब तक इस जानलेवा वायरस को मात देने वालों की संख्या बढ़कर एक करोड़ ६९ लाख ५१ हजार ७३१ पहुंच गई है।