केंद्र सरकार ने कोविशील्ड के दोनों डोज के बीच का गैप किया कम

केंद्र सरकार ने वैक्सीन की बर्बादी रोकने के लिए आज नए निर्देश जारी किए हैं. एक विज्ञप्ति के माध्यम से कहा गया है कि हर वैक्सीनेटर को वायल खुलने का समय और तारीख नोट करनी चाहिए. हर वायल को खोलने के बाद 4 घंटे के भीतर इस्तेमाल कर लिया जाना चाहिए. अगर इस्तेमाल नहीं हो सकता तो फिर उसे हटा देना चाहिए. कहा गया है कि 1% वैक्सीन वेस्टेज की उम्मीद की जा रही है. अगर इससे भी कम वेस्टेज हो तो यह बेहतर बात होगी.

कोरोना की दूसरी लहर अब थमती दिखने लगी है और भारत सरकार की पूरी कोशिश है कि वैक्सीनेशन रफ्तार तेज की जाए. साथ ही वैक्सीन वेस्टेज पर रोक लगाई जाए. कुछ दिन पहले मेडिकल रिसर्च की अग्रणी संस्था ICMR के चीफ डॉ. बलराम भार्गव ने कहा था कि जुलाई-अगस्त तक देश में इतनी वैक्सीन हो जाएगी कि हर दिन एक करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन किया जा सकेगा. उन्होंने वैक्सीन की कमी की खबरों को खारिज कर दिया था.

वहीं केंद्र ने एक बार फिर कोविशील्ड के पहले और दूसरे डोज के बीच का अंतर कम कर दिया है. दूसरे डोज का गैप दो बार बढ़ाया गया, लेकिन इस बार यह गैप घटाया गया है. ये सिर्फ उनके लिए है, जो विदेश यात्रा पर जा रहे हैं. नई गाइडलाइन के बाद अब कुछ श्रेणियों के लिए 84 दिन का इंतजार करने की जरूरत नहीं है. अब 28 दिन के बाद भी कोविशील्ड का दूसरा डोज लगाया जा सकता है. हालांकि, कोवैक्सीन के लिए 2 डोज के बीच का अंतर अभी भी 28 दिन ही है. उसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है. कोविशील्ड के दोनों डोज के गैप में तीसरी बार बदलाव किया गया है. 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन में पहले 28 से 42 दिन तका अंतर था. फिर 22 मार्च को यह गैप बढ़ाकर 6-8 हफ्ते कर दिया गया. इसके बाद 13 मई को यह अंतर 12-16 हफ्ते कर दिया गया.